ALL राजनीति स्पोर्ट्स आरएसएस न्यूज धार्मिक कोरोना वायरस योग व्यायाम आसान / लाइफ स्टाइल / खान पान ताजा न्यूज़ देश - विदेश कहानी ,कविता ,महापुरुषों की जीवनियां प्रदेश न्यूज
ग़ज़ल ज़ियादा न मुश्किल का इम्कान रख नज़र में नए रोज़ सौपान रख
July 3, 2020 • जनस्वामी दर्पण • कहानी ,कविता ,महापुरुषों की जीवनियां

ग़ज़ल

बलजीतासह बनाम

ज़ियादा न मुश्किल का इम्कान रख।

नज़र  में  नए  रोज़  सौपान  रख।।

सदा तूने औरों की धड़कन सुनी।

कभी मेरी धड़कन का भी ध्यान रख।।

वो तेरा सनम या कोई और है।

मोहब्बत में इतनी तो पहचान रख।।

वफ़ाओं के रोशन सदा दीप कर ।

कभी दिल की राहें न सुनसान रख।।

अभी रस जमाने में बिखरा कहाँ।

कहॉं किंसने उपनाम रसखान रख।।