ALL राजनीति स्पोर्ट्स आरएसएस न्यूज धार्मिक कोरोना वायरस योग व्यायाम आसान / लाइफ स्टाइल / खान पान ताजा न्यूज़ देश - विदेश कहानी ,कविता ,महापुरुषों की जीवनियां प्रदेश न्यूज
आर्य समाज ने नागरिकता संशोधन अधिनियम का समर्थन किया है आर्य समाज ने कहा उपद्रवियों की प्रॉपर्टी अटैच कर के करें नुकसान की रिकवरी
December 20, 2019 • जनस्वामी दर्पण विशेष संवाददाता • प्रदेश न्यूज
नागरिकता संशोधन अधिनियम के समर्थन में उतरा आर्य समाज, उपद्रवियों की प्रॉपर्टी अटैच करके करें नुकसान की रिकवरी

रोहतक। नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर पूरा देश सुलग रहा है। जगह-जगह आगजनी व हिंसा की घटनाएं सामने आ रही हैं। इन घटनाओं को अंजाम देने वाले उपद्रवियों के खिलाफ रोहतक में आर्य समाज के लोग सड़कों पर उतर आए। उन्होंने मांग की कि हिंसक घटनाओं में शामिल उपद्रवियों की प्रॉपर्टी अटैच करके सारे नुकसान की भरपाई की जाए। साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि कुछ राजनीतिक दल अपने स्वार्थ के लिए उपद्रवियों को इस कानून के विरुद्ध भड़का रहे हैं। जबकि यह कानून देश हित में है।

जामिया, जेएनयू के खिलाफ भी जमकर निकाली भड़ास

आर्य समाज व अन्य संगठनों के लोग शुक्रवार को सेक्टर 14 स्थित महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय के गेट नंबर 1 पर एकत्रित हुए और नागरिकता संशोधन अधिनियम के समर्थन में शहर में एक मार्च निकाला। इस मार्च के दौरान उन्होंने देश में हो रही हिंसक घटनाओं पर निंदा व्यक्त करते हुए उपद्रवियों के खिलाफ सरकार से सख्त कदम उठाने की अपील की। प्रदर्शन के दौरान नागरिकता संशोधन अधिनियम के समर्थन में नारे लगे ही, साथ ही जामिया जेएनयू के खिलाफ भी जमकर भड़ास निकाली गई। नागरिकता संशोधन अधिनियम के समर्थन में प्रदर्शन के बाद जिला उपायुक्त को ज्ञापन सौंपा और ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।

नागरिकता संशोधन अधिनियम का विरोध करने वाले देशद्रोही: आचार्य विजयपाल

इस प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे आचार्य विजयपाल ने कहा कि यह कानून देश हित में है और वे इसका समर्थन करते हैं। जो इस कानून का विरोध कर रहे हैं वह लोग देशद्रोही है। कुछ राजनीतिक दल अपना स्वार्थ सिद्ध करने के लिए लोगों को भड़का कर देश में हिंसक घटनाएं करवा रहे हैं। इसलिए सरकार को चाहिए कि इनके खिलाफ सख्त कदम उठाए जाएं। इन उपद्रव के दौरान जो भी नुकसान हिंसा व आगजनी में हुआ है उस की भरपाई उपद्रवियों की प्रोपर्टी अटैच करके की जाए।