ALL राजनीति आरएसएस न्यूज स्पोर्ट्स धार्मिक ताजा न्यूज़ कहानी ,कविता ,महापुरुषों की जीवनियां प्रदेश न्यूज खान पान लाइफ स्टाइल योग व्यायाम आसान
चेरापूंजी घूमने के लिए कुछ जानकारियां
September 24, 2019 • जनस्वामी दर्पण

  आइये चेरापूंजी के बारे में जानते हैं                                                                          आपने भारत में हर साल सबसे अधिक वर्षा वाले स्थान के रूप में मेघालय के एक स्थान चेरापूँजी के बारे में अवश्य पढ़ा होगा, यहाँ तक कि अपने स्कूल में भी पढ़ा होगा। चेरापूँजी पहले प्रथम स्थान पर था, लेकिन अब मासिनराम के बाद पृथ्वी पर दूसरा सबसे नम स्थान है जो उसी राज्य का क्षेत्र है। चेरापूंजी के बारे में इस बात के अलावा कुछ भी उल्लेख नहीं किया गया है, हालांकि इसके बारे में बताने के लिए बहुत कुछ शेष है। मेघालय राज्य की राजधानी से 56 कि.मी. की दूरी पर पूर्व खासी पहाड़ियों की गोद में स्थित चेरापूँजी को 'मेघालय का शिरोमणि' (मेघालय का गहना) के रूप में जाना जाता है। चेरापूँजी में मनोरंजन के लिए कई झरने, लिविंग ब्रिज और चूना पत्थर की गुफाओं जैसे मनमोहक स्थान हैं।

चेरापूँजी को मूल रूप से सोहरा के नाम से भी जाना जाता है, चेरापूँजी को ब्रिटिश लोगों के द्वारा 'चुरा' के रूप में उच्चारित किया गया था, जो बाद में चेरापूँजी में बदल गया, जिसका अर्थ है 'संतरों की भूमि'। यात्रा की दृष्टि से यह जगह बिल्कुल अज्ञात है। लेकिन चेरापूँजी यात्रा करने के लिए एक शानदार जगह है। यहाँ पर कुछ स्थान और झरने जैसे डेन थ्लेन फॉल्स (5 किमी दूर), नोहसिंघिथिआंग फॉल्स और नोहकालिकाइ फॉल्स बहुत ही सुन्दर और दर्शनीय हैं। साथ ही  आश्चर्यजनक गुफाएं हैं, जो यात्रा के लायक है और शहर के नजदीक ही स्थित हैं। मौसमाई गुफा सबसे प्रसिद्ध गुफाओं में से एक है, जिसमें प्रकाशमई हलोजन लैंप्स हैं और यह गुफा 820 फिट लंबी हैं। यह गुफा शहर से लगभग 6 कि.मी. की दूरी पर स्थित है। इन प्रमुख गुफाओं में से अधिकांश गुफाएं अभी भी अज्ञात हैं।

लिविंग ब्रिज, चेरापूँजी में विशेष रूप से प्रसिद्ध हैं जो स्थानीय लोगों द्वारा निर्मित नहीं बल्कि उनके द्वारा विकसित किए गये हैं। फिकस इलिस्टिका वृक्ष की गौण जड़ें जो भूमि की सतह के ऊपर बढ़ती हैं, जिनका उपयोग सजीव पुल (लिविंग ब्रिज) बनाने के लिए किया जाता है। यद्यपि पुलों को निर्मित करने के लिए लगभग 10-15 साल लगते हैं, लेकिन ऐसे पुल सैकड़ों वर्षों तक चलते हैं। चेरपूँजी में सबसे पुराने जीवित पुलों में से एक 500 वर्ष पुराना है और अब भी उपयोग में है। उम्श्हियांग डबल-डेकर रूट ब्रिज पूरे विश्व में अपने जैसे पुलों में एक अनोखा पुल है, जिसमें दो पुल, एक दूसरे के ऊपर बने हुए हैं।

चेरापूँजी में मार्च से अक्टूबर तक एक वर्ष में लगभग आठ महीनों तक वर्षा होती है और सबसे ज्यादा वर्षा जून और जुलाई माह के दौरान होती है। चेरापूँजी में नवंबर से फरवरी तक लगभग सूखा रहता है। इसलिए यदि आप वर्षा और प्राकृतिक सुंदरता का आनंद लेना चाहते हैं, तो मानसून का समय अच्छा है, लेकिन दूसरी तरफ अगर आप रोमांच और अन्य गतिविधियों से प्यार करते हैं, तो नवंबर से फरवरी के बीच चेरापूँजी की यात्रा करें।

बड़े पैमाने पर जंगलों के विनाश के कारण चेरापूँजी के लोग बहुत परेशानियों का सामना कर रहे हैं। हर साल मानसून के बाद जमीन सूख जाती है। यहाँ तक कि लोगों को पीने का पानी मिलना भी मुश्किल हो जाता है। प्रकृति और जगह की सुंदरता को बचाने के लिए शहर को संरक्षित किया जाना चाहिए, क्योंकि चेरापूँजी घूमने और आनंद लेने के लिए एक शानदार जगह है।