ALL राजनीति स्पोर्ट्स आरएसएस न्यूज धार्मिक कोरोना वायरस योग व्यायाम आसान / लाइफ स्टाइल / खान पान ताजा न्यूज़ देश - विदेश कहानी ,कविता ,महापुरुषों की जीवनियां प्रदेश न्यूज
गुरबानी ,योग, मंत्र ,भांगड़ा ,गरबा की धूम हाउडी मोदी इवेंट अमेरिका में देखा मिनी इंडिया
September 22, 2019 • विशेष संवाददाता

हाउडी मोदी इवेंट: गुरबाणी, योग, मंत्र, भांगड़ा, गरबा की धूम, अमेरिका में दिखा मिनी इंडिया

ह्यूस्टन के मंच पर समोसे से लेकर अमिताभ बच्चन तक को दिखाया गया। पंजाबी भांगड़ा, गुजराती गरबा से लेकर गुरबाणी, संस्कृत के मंत्र और एकला चलो गीत की परफॉर्मेंस भी दी गई। 

 
  • अमेरिका की धरती पर आयोजित 'हाउडी मोदी' इवेंट के दौरान ह्यूस्टन पूरी तरह भारतीय रंगों में रंगा दिख रहा है
  • पंजाबी भांगड़ा, गुजराती गरबा से लेकर गुरबाणी, गुरुर्ब्रह्म गुरुर्विष्णु जैसे संस्कृत के मंत्र और एकला चलो गीत की परफॉर्मेंस भी दी गई
  • देश के मशहूर गजल गायक रहे जगजीत सिंह की गजल 'झुकी-झुकी सी नजर'


अमेरिका की धरती पर आयोजित 'हाउडी मोदी' इवेंट के दौरान ह्यूस्टन पूरी तरह भारतीय रंगों में रंगा दिख रहा है। इसे दुनिया में बढ़ती भारतीयों की ताकत ही कहेंगे कि ह्यूस्टन के मंच पर समोसे से लेकर अमिताभ बच्चन तक को दिखाया गया। पंजाबी भांगड़ा, गुजराती गरबा से लेकर गुरबाणी, गुरुर्ब्रह्म गुरुर्विष्णु जैसे संस्कृत के मंत्र और एकला चलो गीत की परफॉर्मेंस भी दी गई। यही नहीं भारत-अमेरिका की दोस्ती और सांस्कृतिक संबंधों को भी पर्दे पर उकेरा गया। समोसे से बर्गर तक और अमिताभ बच्चन से ब्रैड पिट तक की जुगलबंदी को दर्शाया गया।
 

यही नहीं पीएम नरेंद्र मोदी की प्राथमिकता में हमेशा रहने वाले योग के आसन भी किए गए। दुनिया को भारत की ओर से दिए गए बौद्ध मत और योग के बारे में भी बताया गया। देश के मशहूर गजल गायक रहे जगजीत सिंह की गजल 'झुकी-झुकी सी नजर' की भी प्रस्तुति दी गई। दुनिया में भारत की उपस्थिति का मंच बने ह्यूस्टन के एनआरजी स्टेडियम में सांस्कृतिक प्रस्तुतियों का ऐसा समां बंधा कि ऐसा लगा जैसे मिनी इंडिया ही अमेरिका में आ बसा हो।

भारत-अमेरिका के सांस्कृतिक संबंधों को दर्शाया गया

बता दें कि इस कार्यक्रम में कुल 50,000 लोग पहुंचे हैं। इसके अलावा अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के अलावा तमाम अमेरिकी सांसद भी आयोजन का हिस्सा बनने वाले हैं। पीएम नरेंद्र मोदी के मंच पर अमेरिका राष्ट्रपति के आने को कूटनीतिक संबंधों के लिहाज से भी बेहद महत्वपूर्ण माना जा रहा है। संभवत: यह पहला मौका है, जब अमेरिका की धरती पर किसी दूसरे देश के नेता के आयोजन पर राष्ट्रपति ने हिस्सा लिया हो।