ALL राजनीति आरएसएस न्यूज स्पोर्ट्स धार्मिक ताजा न्यूज़ कहानी ,कविता ,महापुरुषों की जीवनियां प्रदेश न्यूज खान पान लाइफ स्टाइल योग व्यायाम आसान
कई दिग्गज नेता हुए भावुक राजकीय सम्मान संग हुआ अंतिम संस्कार
August 7, 2019 • विशेष संवाददाता

सुषमा स्वराज पंचतत्व  में विलीन  राजकीय सम्मान संग हुआ अंतिम संस्कार प्रधानमंत्री .समेत कई दिग्गज नेता हुए भावुक

दिग्गज बीजेपी नेत्री और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज तिरंगे में लिपटकर अनन्त सफर पर रवाना हो गई है |बुधवार (7अगस्त 2019)को नई दिल्ली स्थित लोधी रोड शवदाह ग्रह में उनका राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार हुआ | उन्हें आखिरी विदाई देने के लिए परिजन के अलावा राष्ट्रपति उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडु प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गृहमंत्री अमित शाह रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी ,समेत कई बड़े नेता पहुंचे | इससे पहले सुषमा स्वराज की अंतिम यात्रा के दौरान समर्थकों और पार्टी कार्यकर्ताओं की भीड़ उमड़ पड़ी जबकि उनके पार्थिव शरीर को श्रद्धा सुमन अर्पित करने साहा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी उनके आवास में गए थे सुषमा स्वराज की  उनकी,  और शख्सियत  का अंदाजा  इसी बात से लगाया जा सकता है के उनके अंतिम दर्शन के लिए विपक्ष के भी कई बड़े नेता पहुंचे |

सुषमा स्वराज का निधन मंगलवार देर रात हुआ था | 67 वर्षीय     पूर्व विदेश मंत्री को दिल का दौरा पड़ा था जबकि दिल्ली के एम्स अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली थी हैरत की बात यह है कि इससे चंद घंटे पहले उन्होंने लोकसभा में पारित हुए जम्मू कश्मीर पुनर्गठन बिल पास होने पर पीएम मोदी को बधाई देते हुए खुशी जाहिर की थी |

विभिन्न देशों के राजदूतों ने सुषमा स्वराज के निधन पर जताया दुख 

विदेश मंत्री रहते हुए सुषमा स्वराज ने बेहतरीन काम किया |यही वजह रही कि उनके निधन पर कई देशों के राजदूत ने दुख प्रकट किया |इसमें रूस इजरायल चीन के राजदूत प्रमुख हैं |

स्मति ईरानी बोलीं -वादा पूरा के बिना ही चली गई दे दी ,

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन पर बुधवार को शोक व्यक्त करते हुए एक ट्वीट किया ईरानी ने लिखा  ,की असंख्य महिला कार्यकर्ताओं की प्रेरणा दीदी का आकस्मिक निधन हम सबको  स्तब्ध कर गया |आज उनके शोकाकुल परिवार के प्रति सहानुभूति व्यक्त करती हूँ | 

उन्होंने एक घटना का जिक्र करते हुए कहा जब सुषमा स्वराज ने अपनी बेटी बांसुरी से कहा था कि वहाँ एक रेस्तरां चुनें जहां हम जीत का जश्न मना सकें आप हम दोनों से किया वह वादा पूरा किये बिना ही चली गई